समदर्शी - कविता - प्रवीन "पथिक"

सुख दुःख
क्या?
मन के विकल्प!
इसी विचार से,
कायाकल्प।
समभाव रहे,
जिसका मन।
पाते रहे सुख,
निज जीवन।
रहे सदा खुश,
अपना तन मन;
आई कहती,
ये गूढ़ बातें।
पाया समझ जो,
इस तथ्य को।
मिटे विषाद, 
औ ग़म की रातें।

प्रवीन "पथिक" - बलिया (उत्तर प्रदेश)

Join Whatsapp Channel



साहित्य रचना को YouTube पर Subscribe करें।
देखिए साहित्य से जुड़ी Videos