मस्ताने मौसम ने - गीत - सुषमा दीक्षित शुक्ला

मस्ताने मौसम ने पागल मुझे कर दिया,
दीवाने मौसम ने घायल मुझे कर दिया।

भीगा सावन बहकने लगा,
गीला बदन क्यूँ दहकने लगा।
दिल धक धक धक धड़कने लगा,
शोला जैसे भड़कने लगा।

फूलों के चिलमन ने पागल मुझे कर दिया,
भौरों के गुंजन ने घायल मुझे कर दिया।

मस्ताने मौसम ने...

बादल घटा से मचलने लगा,
बनके मोहब्बत बरसने लगा।
बारिश का जादू बिखरने लगा,
नैनों में कोई उतरने लगा।

कलियों के आँचल ने पागल मुझे कर दिया,
मतवाले बादल ने पागल मुझे कर दिया।

मस्ताने मौसम...


साहित्य रचना को YouTube पर Subscribe करें।
देखिये हर रोज साहित्य से जुड़ी Videos