छाया त्रासन है - नवगीत - अविनाश ब्यौहार

छाया त्रासन है - नवगीत - अविनाश ब्यौहार | Navgeet - Chhaaya Traasan Hai - Avinash Beohar
नहीं फटकता अँधकार
पहरुए हैं उजाले के।

अँधकार का नाश करेंगे
दिए दिवाली के।
हथकड़ियाँ हाँथों में होंगी
किसी मवाली के।।

हैं कभी-कभी फ़साद हो जाते
बैठे-ठाले के।

दिन-दहाड़े लूट है होती
कैसा शासन है।
गली, मोहल्ले, चोराहों में
छाया त्रासन है।।

वातानुकूलित दु:ख पढ़ेंगे
पाँवों के छाले के।


Join Whatsapp Channel



साहित्य रचना को YouTube पर Subscribe करें।
देखिए साहित्य से जुड़ी Videos