नसीहत - कविता - सैयद इंतज़ार अहमद

दूसरों को दोष मत दो,
अपनी कारदानियों का।
ख़ुद से उपजाई,
बेतुकी परेशानियों का।।
तुम ही तो ज़िम्मेदार हो
अपनी विफलताओं के।
तुम्हीं ने तो तोड़े थे,
अध-खिले फूल लताओं के।।
फिर क्यों व्याकुल हो,
चिंतित और अचंभित।
देख किसी की सफल ज़िंदगी,
स्वयं पर सशंकित।।
मानो ख़ुद की गलती
और शुरू करो प्रायश्चित।
अन्य न कोई मार्ग है दूजा,
है यही सर्वोचित।।

सैयद इंतज़ार अहमद - बेलसंड, सीतामढ़ी (बिहार)

साहित्य रचना को YouTube पर Subscribe करें।
देखिये हर रोज साहित्य से जुड़ी Videos