तुमको निगाहें ढूंढ़ रही हैं - गीत - अशोक योगी "शास्त्री"

झिर मिर झिर मिर मेहा बरसे
पागल मनवा मिलन को तरसे
मन चंचल चित चोर हुआ है
छोड़ गए हो तन्हा जबसे।

बंद हुआ चिड़ियों का चहकना
छोड़ दिया गुलशन ने महकना
आँख दरियां बन गई
दूर हुए हो जबसे हमसे।

तू जबसे है रूंठ गया
पर्वत का झरना सूख गया
बंद हुआ बरगद का बड़कना
चले गए हो यारा जबसे।

तुमको निगाहें ढूँढ़ रही हैं
मिलन आश में झूम रही हैं
आ जाओ तुम बन कर पुर्वाई
आँखे निर्झर बरस रही जाने कबसे।

अशोक योगी "शास्त्री" - कालबा नारनौल (हरयाणा)

Join Whatsapp Channel



साहित्य रचना को YouTube पर Subscribe करें।
देखिए साहित्य से जुड़ी Videos