हम भारत के सैनिक - बालगीत - श्याम सुन्दर श्रीवास्तव "कोमल"

हम भारत के सैनिक हैं यह, देश हमें अति प्यारा है।
इसकी रक्षा करना सबसे, पहला फर्ज हमारा है।

इसकी पावन मिट्टी में हम, खेलकूद कर बड़े हुये।
फल, औषधियाँ, अन्न-जल पा,स्वस्थ,पुष्ट हो खड़े हुये।

वृक्ष, पुष्प, पर्वत मालायें, प्रकृति ने रूप सँवारा है।
इसकी रक्षा करना सबसे, पहला फर्ज हमारा है।।

मान और सम्मान देश का, कभी नहीं जाने देंगे।
अपने भारत की धरती पर, शत्रु नहीं आने देंगे।

पर्वत की चोटी पर चढ़कर, दुश्मन को ललकारा है।
इसकी रक्षा करना सबसे, पहला फर्ज हमारा है।

पूर्व दिशा में सूरज उग कर, नई रोशनी भरता है।
देश गान गा मधु लय स्वर में, झर-झर झरना झरता है।

जागो, उठो! चूम लो चोटी, रवि ने हमें पुकारा है।
इस भारत की रक्षा करना, पहला फर्ज हमारा है।

श्याम सुन्दर श्रीवास्तव "कोमल" - लहार, भिण्ड (मध्यप्रदेश)

साहित्य रचना को YouTube पर Subscribe करें।
देखिये हर रोज साहित्य से जुड़ी Videos